Connect with us
Wednesday,19-January-2022
ताज़ा खबर

Monsoon

मैदानी भाग में मानसून सक्रिय, उत्तर भारत में कुछ जगहों पर बारिश के आसार

Published

on

Rain

देश के मैदानी भाग में मानसून की सक्रियता बनी हुई है हालांकि उत्तर-पश्चिम भारत में अभी तक सुस्ती बरकरार है, लेकिन अगले 24 घंटे में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दक्षिण और पूर्वी राजस्थान में कुछ जगहों पर बारिश होने के आसार हैं। निजी मौसम पूवार्नुमानकर्ता स्काईमेट द्वारा मंगलवार को जारी पूवार्नुमान के मुताबिकए उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और तेलंगाना में अगले 24 घंटे में छिटपुट बौछारें पड़ सकती हैं, जबकि तमिलनाडु, तटीय आंध्र प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दक्षिण और पूर्वी राजस्थान में मॉनसून की चाल सुस्त रह सकती है, हालांकि कुछ स्थानों पर बारिश की संभावना बनी हुई है।

स्काईमेट के अनुसार, गुजरात में मानसून कमजोर पड़ सकता है लेकिन सौराष्ट्र में कुछ जगहों पर मध्यम से भारी बारिश का सिलसिला जारी रह सकता है जबकि बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, और केरल के कुछ हिस्सों में मानसून सक्रिय रह सकता है जिससे इन इलाकों में भारी बारिश होगी।

वहीं, कोंकण, गोवा, तटीय कर्नाटक, मध्य महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और ओडिशा में हल्की से मध्यम कोटि की बारिश हो सकती है।

स्काइमेट के अनुसार बीते 24 घंटों के दौरान गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ में मानसून काफी सक्रिय रहा जिससे अत्यधिक बारिश हुई।

इसके अलावा, कोंकण गोवा, ओडिशा, केरल, उत्तर प्रदेश के पूर्वी व मध्य भाग उत्तर-पूर्वी मध्य प्रदेश, उप-हिमालयी क्षेत्र पश्चिम बंगाल, सिक्किम, मेघालय, असम के इलाकों में भी मध्यम से भारी बारिश हुई।

वहीं, बिहार, पश्चिम उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, गुजरात के पूर्वी क्षेत्र, मध्य महाराष्ट्र, तटीय कर्नाटक, विदर्भ, तटीय आंध्र प्रदेश, लक्षद्वीप में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम श्रेणी की बारिश दर्ज की गई। इसके अलावा, हरियाणा और पंजाब के भी कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम श्रेणी की बारिश हुई।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

Monsoon

बाढ़ की चपेट में उत्तर प्रदेश के 24 जिले, 605 गांव

Published

on

Floods

 उत्तर प्रदेश में प्रमुख नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, जिसके चलते 24 जिलों के करीब 605 गांवों को बाढ़ प्रभावित घोषित कर दिया गया है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के 24 जिलों में बाढ़ प्रभावित गांवों की संख्या 605 हो गई है।

राहत आयुक्त रणवीर प्रसाद ने बताया कि बदायूं, प्रयागराज, मिर्जापुर, वाराणसी, गाजीपुर और बलिया जिलों में गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

उन्होंने कहा कि औरैया, जालौन, हमीरपुर, बांदा और प्रयागराज जिलों में यमुना खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, जबकि बेतवा नदी हमीरपुर में उफान पर है।

उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और इसी तरह गोंडा में कुवानो और उत्तर प्रदेश-राजस्थान सीमा पर चंबल में बह रही है।

हमीरपुर जिले में 75, बांदा में 71, इटावा और जालौन में 67-67, वाराणसी में 42, कौशांबी में 38, चंदौली और गाजीपुर में 37-37, औरैया में 25, कानपुर देहात और प्रयागराज में 24-24, फरु खाबाद में 23, आगरा में 20 और बलिया जिले में 17 गांव बाढ़ की चपेट में हैं।

प्रसाद ने कहा कि मिर्जापुर, गोरखपुर, सीतापुर, मऊ, लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुर, बहराइच, गोंडा और कानपुर जिलों के गांवों में भी बाढ़ आई है।

राहत आयुक्त ने कहा, “राज्य सरकार ने नौ जिलों में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की नौ टीमों, 11 जिलों में राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की 11 टीमों और 39 जिलों में प्रांतीय सशस्त्र बल (पीएसी) की 39 टीमों को राहत और बचाव अभियान के लिए तैनात किया गया है।”

उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों ने 536 लोगों को बचाया और 504 चिकित्सा टीमों को बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है।

इसके अलावा, राज्य में 11,235 बाढ़ चौकियां और 940 बाढ़ आश्रय स्थल बनाए गए हैं और 1,463 नौकाओं को राहत एवं बचाव कार्यों में लगाया गया है।

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के बीच भोजन के पैकेट और सूखा राशन वितरित किया जा रहा है।

उन्होंने यह भी कहा, “गांवों के साथ-साथ नदी तटबंधों और अन्य संवेदनशील जगहों पर नियमित गश्त की जा रही है। जिला प्रशासन को सामुदायिक रसोई स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं। पेट्रोल, डीजल, मिट्टी के तेल और खाद्य पदार्थों जैसी आवश्यक वस्तुओं की बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नियमित आपूर्ति को बनाए रखा जा रहा है।”

Continue Reading

Monsoon

बाढ़ प्रभावित महाराष्ट्र में 89 हजार लोग बेघर

Published

on

uddhav-t

 बारिश तो थम गई, लेकिन महाराष्ट्र में बारिश और बाढ़ प्रभावित जिलों ने एक गंभीर स्थिति पेश की, जिसमें 89,000 से अधिक लोगों को निकाला गया और केवल इस विचार से जूझना शुरू हो गया कि उनका जीवन का पुनर्निर्माण कैसे किया जाए। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हेलीकॉप्टर से रायगढ़ के लिए रवाना हुए और फिर सड़क मार्ग से महाड़ के पास सबसे ज्यादा प्रभावित तालिये गांव का सर्वेक्षण किया, जहां शुक्रवार को एक पहाड़ी के नीचे 50 से अधिक लोग मारे गए थे।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) के अनुसार, रत्नागिरी जिले के चिपलून और खेड़ शहर में पूरी तरह से पानी से भर गया था, दोनों ही भूमि मार्गों से कटे हुए थे क्योंकि वशिष्ठी नदी का पुल बाढ़ में बह गया था।

अभूतपूर्व बारिश के कारण जल स्तर 15-20 फीट (या, इमारतों की दो-तीन मंजिल) से अधिक हो गया, हजारों लोग छतों या ऊपरी बाढ़ में फंसे हुए थे और मदद के लिए चिल्ला रहे थे।

एनडीआरएफ और आईसीजी टीमों को उन्हें बचाने के लिए तैनात किया गया था, जबकि भारतीय वायुसेना के हेलिकॉप्टरों ने भोजन और दवा के पैकेट गिराए और 1,000 से अधिक को सुरक्षित निकाल लिया गया।

महाबलेश्वर के लोकप्रिय हिलस्टेशन में 110 सेंटीमीटर की शानदार बारिश के साथ, भारी पानी कोयना बांध और कोलतेवाड़ी बांध में चला गया और उनके निर्वहन के कारण वशिष्ठ नदी खतरे के स्तर से ऊपर हो गई, जिसके परिणामस्वरूप कस्बों और गांवों में बाढ़ आ गई।

विभिन्न जिलों में एक दर्जन से अधिक पहाड़ियां और भूस्खलन हुए हैं और कई लापता होने की सूचना है और उन्हें कीचड़ और पत्थरों से बचाने के लिए युद्ध के प्रयास जारी हैं।

राज्य सरकार ने प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यों के लिए 2 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं, जहां जल स्तर कम होना शुरू हो गया है और सफाई अभियान शुरू कर दिया गया है।

एसडीएमए ने आज बाढ़, पहाड़ी-पर्ची, भूस्खलन और अन्य बारिश से संबंधित त्रासदियों में 59 अन्य लापता और 38 घायलों के अलावा 76 पर वर्तमान आधिकारिक मौत का अनुमान लगाया।

सबसे ज्यादा प्रभावित जिले कोल्हापुर, रायगढ़, सांगली, रत्नागिरी, सतारा, सिंधुदुर्ग, मुंबई और ठाणे थे, जिसमें कुल 890 गांव थे।

एनडीआरएफ की कुल 25 टीमें और आठ स्टैंडबाय पर, भारतीय सेना और भारतीय तटरक्षक बल की तीन-तीन इकाइयां, भारतीय नौसेना की सात और भारतीय वायु सेना की एक, स्थानीय अधिकारियों के अलावा, पिछले 24 घंटों से लगातार बचाव अभियान में लगी हुई है।

एसडीएमए ने कहा कि क्षेत्र में ताजा बारिश शुरू होने के साथ, अधिकारी किसी भी अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए हाई अलर्ट पर हैं, जबकि स्वास्थ्य अधिकारी बाढ़ के बाद किसी भी बीमारी के संभावित प्रकोप के लिए क्षेत्र पर नजर रख रहे हैं।

Continue Reading

Monsoon

भूस्खलन से तबाह हो गया रायगढ़ का तालिये गाँव, 120 लोगों की आबादी, 49 मरे, 47 लापता

Published

on

raigadh-1

महाराष्ट्र में भारी बारिश के बाद बाढ़ और भूस्खलन से तबाही मची है। अलग-अलग घटनाओं में अभी तक 136 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। लेकिन सबसे दर्दनाक हादसा रायगढ़ जिले के महाड तालुका के तालिये गांव में हुआ है, जहां 49 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां 12 लोग अभी घायल हैं, जबकि 47 अन्य लापता बताए जा रहे हैं। तस्वीरों में देखिए मंजर.. रायगढ़ के तालिये में भूस्खलन की यह घटना गुरुवार की शाम हो हुई। राहत और बचाव का काम जारी है। यहां के निवासी मिलिंद गंगवाने ने बताया, ‘सरकार और प्रशासन की तरफ से ग्रामीणों को आपदा का अलर्ट नहीं जारी किया गया था। हमारे छोटे से गांव में 120 लोगों की ही आबादी है। पहाड़ से 100 फीट की ऊंचाई से पत्थर गिरा।’

उन्होंने यह भी बताया कि स्थानीय प्रशासन की तरफ से 4-5 दिन पहले सुरक्षित जगह पर शिफ्ट किया गया था लेकिन बारिश कम होने पर वे वापस लौट आए। रायगढ़, सतारा, रत्नागिरी में बाढ़ और भूस्खलन की अलग-अलग घटनाओं में कई लोगों की मौत हुई है। वहीं तालिये की अंकिता नाम की निवासी ने बताया- मेरा घर टूट गया। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। लोगों ने नए घर बनाए थे और उसके लिए लोन भी लिया था। सबकुछ खत्म हो गया। विपक्षी बीजेपी ने सत्तापक्ष के नेताओं और प्रशासन पर समय से ऐक्शन नहीं लेने और घटना के 20 घंटे बाद भी नहीं पहुंचने का आरोप लगाया। वहीं मुंबई से हेलिकॉप्टर के जरिए आई एनडीआरएफ की टीम को प्रशासन की तरफ से लैंडिंग की जगह नहीं मिलने से वापस लौटना पड़ा।

रायगढ़, कोंकण और सातारा में अगले दो दिन के लिए रेड अलर्ट है। कोल्हापुर, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग ऑरेंज अलर्ट पर है। कोल्हापुर की नदी पंचगंगा, रत्नागिरी की काजली और मुचकुंदी, कृष्ण नदी और कोयना डैम के साथ-साथ विशिष्टि नदी अब भी खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बारिश के कारण हुए हादसों में मृतकों के घरवालों को 5-5 लाख रुपये की अंतरिम मदद का ऐलान किया है। केंद्र सरकार मृतकों के परिजन को दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये देगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंत्रालय के आपात नियंत्रण कक्ष में पहुंचकर हालात का जायजा लिया।

Continue Reading
Advertisement
corona (6)
महाराष्ट्र6 hours ago

मुंबई में कोरोना के मामलों में गिरावट जारी, बुधवार की शाम आए 6,032 नये मामले

महाराष्ट्र8 hours ago

गोवा चुनाव से पहले शिवसेना और राकांपा ने गठबंधन की घोषणा की

अंतरराष्ट्रीय8 hours ago

पहला वनडे : साउथ अफ्रीका ने भारत को दिया 297 रनों का लक्ष्य

महाराष्ट्र9 hours ago

एडमिरल आर. हरि कुमार ने आईएनएस रणवीर हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया

अंतरराष्ट्रीय9 hours ago

आईसीसी पुरुष टी20 ‘टीम ऑफ द ईयर’ में बाबर आजम बने कप्तान, भारत का कोई भी खिलाड़ी शामिल नहीं

बॉलीवुड9 hours ago

फरहान अख्तर ने ‘लक्ष्य’ की शूटिंग को किया याद

राष्ट्रीय9 hours ago

आगामी वित्त वर्ष में केंद्र को वित्तीय घाटा कम होने की उम्मीद

राष्ट्रीय9 hours ago

बीएसएनएल को पछाड़ते हुए देश की सबसे बड़ी फिक्स्ड ब्रॉडबैंड कंपनी बनी जियो

महाराष्ट्र9 hours ago

गोवा में एक साथ नहीं महाविकास अघाड़ी, कांग्रेस से बिना गठबंधन के चुनाव लड़ेगी शिवसेना और NCP

अंतरराष्ट्रीय9 hours ago

फूड टेक कंपनी प्लक ने एक्सपोनेन्सिया वेंचर्स से पांच मिलियन डॉलर की पूंजी जुटायी

uddhav
महाराष्ट्र3 weeks ago

बीएमसी चुनाव के मद्देनजर ठाकरे सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब 500 स्क्वायर फुट वाले घरों का प्रॉपर्टी टैक्स होगा माफ

School-Child
राजनीति2 weeks ago

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर मुंबई में 31 जनवरी तक स्कूल फिर से बंद, सिर्फ 10वीं और 12वीं की चलेगी कक्षाएं

महाराष्ट्र2 weeks ago

पांच राज्यों में चुनाव तारीखों की घोषणा, यूपी में सात चरणों में मतदान, 10 मार्च को वोटों की गिनती

सामान्य3 weeks ago

मुंबई में प्रतिबंधों के बीच कोरोना विस्फोट, एक दिन में आए 2510 नये केस

महाराष्ट्र4 weeks ago

यूपी और एमपी के बाद अब महाराष्ट्र में भी रात के कर्फ्यू की घोषणा, नई गाइडलाइन्स आज रात 9 बजे से ही लागू

महाराष्ट्र3 weeks ago

महाराष्ट्र में तीसरी लहर से 80,000 मौतों की चेतावनी

महाराष्ट्र2 weeks ago

सोमवार से लागू होगी सख्त गाइडलाइन्स, मुंबई में कोरोना के नये मामले लगातार तीसरे दिन भी 20 हजार के पार

अपराध2 weeks ago

जावेद हबीब मामला: ब्यूटीशियन पूजा ने पुलिस में दर्ज कराया मुकदमा

अपराध2 weeks ago

हिंदू महिलाओं के बारे में अपमानजनक पोस्ट करने पर सरकार ने टेलीग्राम चैनल को किया ब्लॉक

राजनीति3 days ago

यूपी विधानसभा 2022: AIMIM ने जारी की पहली सूची

अपराध2 years ago

झोमेटो की महिला ने गाड़ी उठा कर ले जाने पर ट्रैफिक पुलिस को दी गालियां

अपराध2 years ago

मुंबई के भायखला ई वार्ड में स्थित केएसए ग्रांड के 18वें फ्लोर से गिरी लिफ्ट, एक शख्स घायल

बॉलीवुड3 years ago

शाहरूख खान की आने वाली फिल्म जीरो का ट्रेलर इस दिन होगा रिलीज

बॉलीवुड3 years ago

पूर्व मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन का कभी देखा है इतना हॉट लुक

अपराध3 years ago

मुंबई लोकल से गिरी लड़की के खिलाफ आरपीएफ ने दर्ज किया केस

बॉलीवुड3 years ago

तनुश्री दत्ता के आरोपों पर अभिनेता नाना पाटेकर जल्द ही देंगे जवाब

मनोरंजन3 years ago

पीएम नरेंद्र मोदी ने शाहरूख खान को इस वजह से किया सैलूट

बॉलीवुड3 years ago

जानिए आखिर क्यों गोल्डन गर्ल आशा पारेख ने नहीं की शादी

अपराध3 years ago

मुंबई लोकल से गिरी लड़की की पहचान आई सामने, जानिए कौन है वो लड़की

अपराध3 years ago

देखिए मुंबई में हुए एक दर्दनांक हादसे का वीडियो

रुझान