Connect with us
Friday,27-May-2022
ताज़ा खबर

राष्ट्रीय

आगामी वित्त वर्ष में केंद्र को वित्तीय घाटा कम होने की उम्मीद

Published

on

केंद्र सरकार को उम्मीद है कि प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर संग्रह में अप्रत्याशित बढ़ोतरी होने से वित्त वर्ष 2022-23 में वित्तीय घाटे के लक्ष्य को कम किया जा सकता है।

इसी तरह, उद्योग जगत से जुड़े लोगों ने भी अनुमान लगाया है कि वित्त वर्ष 2023 में वित्तीय घाटे का लक्ष्य 5.8-6.4 प्रतिशत तक निर्धारित किया जा सकता है। वित्त वर्ष 2022 में वित्तीय घाटा 15.06 लाख करोड़ रुपये का रहा है।

एम्के ग्लोबल की मुख्य अर्थशास्त्री माधवी अरोड़ा ने कहा,” इस वर्ष बजट में वित्तीय मजबूती की गति पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। अधिक व्यय को संतुलित करने वाले कारक अगले वर्ष विनिवेश लक्ष्य बन सकते हैं। यहां तक कि बीपीसीएल और संभवत: एलआईसी का आईपीओ भी आगामी वित्त वर्ष लाया जा सकता है। ”

उनके मुताबिक उत्तर प्रदेश, पंजाब और गुजरात जैसे प्रमुख राज्यों के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजस्व व्यय पर संभवत: अगले वित्त वर्ष भी दबाव बना रहेगा तथा उपभोग की गति भी कम होने के प्रारंभिक संकेत दिखेंगे, खासकर ग्रामीण इलाकों में।

महालेखा नियंत्रक, सीजीए द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों के मुताबिक राजस्व और व्यय का अंतर यानी वित्तीय घाटा अप्रैल -नवंबर 2021-22 की अवधि में बजट अनुमान का 46.2 प्रतिशत या 695,614 करोड़ रुपये रहा।

इक्रा की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा,” भारत सरकार का वित्तीय घाटा वित्त वर्ष 2022 के 16.6 ट्रिलियन रुपये या सकल घरेलू उत्पाद के 7.1 प्रतिशत से कम होकर सकल घरेलू उत्पाद के 5.6 प्रतिशत या 15.2 ट्रिलियन रुपये होने की उम्मीद है।”

उन्होंने कहा,” हमारा अनुमान है कि वित्त वर्ष 2023 में भारत सरकार द्वारा 27 ट्रिलियन रुपये का कर संग्रह होगा, जो वित्त वर्ष 2022 के हमारे अनुमानित स्तर की तुलना में वार्षिक आधार पर 9.3 प्रतिशत अधिक है।”

अप्रैल – नवंबर 2021-22 की अवधि में कुल कर संग्रह में 50.3 प्रतिशत की तेजी दर्ज की गयी।

इंडिया रेटिंग एंड रिसर्च के प्रमुख अर्थशास्त्री सुनील कुमार सिन्हा ने कहा,” हमारा अनुमान है कि इस वित्त वर्ष अधिक कर और गैर कर राजस्व संग्रह विनिवेश से प्राप्त राजस्व में आयी कमी से अधिक होगा, जिससे वित्तीय घाटा वित्त वर्ष 2022 के सकल घरेलू उत्पाद का 6.6 प्रतिशत रह सकता है, जो बजट में अनुमानित से 20 आधार अंक कम है।”

इसके अलावा भी अन्य कारक वित्त वर्ष 2023 में वित्तीय मजबूती के सहायक साबित हो रहे हैं और जिससे यह संभावना है कि एलआईसी का आईपीओ अगले वित्त वर्ष पूरा होगा, जिससे विनिवेश से प्राप्त राजस्व में बढ़ोतरी होगी।

एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च की मुख्य विश्लेषण अधिकारी सुमन चौधरी ने कहा,” हमारा मानना है कि वित्त वर्ष 2023 में मुख्य फोकस विकास को गति देने पर होगा और इसमें अधिक राजस्व तथा पूंजी व्यय का खाका भी शामिल होगा। इसी कारण हम अगले साल बजट में अनुमानित वित्तीय घाटे में कोई बड़ी कमी नहीं देख रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि वित्तीय घाटे को लक्ष्य के अनुसार रखना न सिर्फ वित्त वर्ष 2022 के लिए बल्कि आने वाले कुछ वर्षो के दौरान विनिवेश तथा परिसंपत्ति मुद्रीकरण जैसे गैर कर राजस्व प्राप्तियों को बढ़ाने की सरकार की योग्यता पर निर्भर है।

ब्रिकवर्क रेटिंग्स के मुख्य आर्थिक सलाहकार एम गोविंद राव ने कहा, ” विनिवेश प्राप्तियों, परिसंपत्ति के मुद्रीकरण और कर संग्रह में जारी वृद्धि से हमें उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2023 में वित्तीय घाटे के 6.3 से 6.5 प्रतिशत के बीच रहेगी।”

उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि बजट में पूंजी व्यय में अच्छी खासी बढ़ोतरी होगी और साथ ही वित्त वर्ष 2025-26 तक वित्तीय घाटे के 4.5 प्रतिशत रहने के लक्ष्य को हासिल किया जा सकेगा।

Continue Reading

राष्ट्रीय

बाजरे के उत्पादन को बढ़ावा देगा केंद्र, वैश्विक बाजार के लिए तैयार होगा प्रसंस्कृत बाजरा उत्पाद

Published

on

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार न सिर्फ बाजरे के उत्पादन को बढ़ावा देगी बल्कि वैश्विक बाजार के लिए प्रसंस्कृत बाजार उत्पादों को भी प्रोत्साहन देगी। पहले पौधा आधारित खाद्य सम्मेलन से इतर केंद्रीय मंत्री ने संवाददाताओं को कहा कि साल 2023 अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष है। दुनिया भर में उत्पादित कुल बाजरे का 40 प्रतिशत हिस्सा भारत में उगाया जाता है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बाजरे को बढ़ावा देना के लिए काफी प्रयास किये हैं और साथ अंतर्राष्ट्रीय बाजार में प्रसंस्कृत बाजरा उत्पादों की आपूर्ति को भी प्रोत्साहित किया गया है।

पटेल ने कहा कि मंत्रालय को इस प्रकार के खाद्यान्नों को प्रोत्साहित करने के लिए 10,000 करोड़ रुपये से अधिक का फंड दिया गया है। इसकी बस एक शर्त है कि कंपनी भारतीय होनी चाहिए। उन्होंने कई पारंपरिक खाद्य पदार्थो का नाम गिनाते हुए कहा कि इन्हें बस वैज्ञानिक पुष्टि की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि भारत पारंपरिक रूप से पौधा आधारित भोजन का समर्थक रहा है। यह हमारी ताकत रही है। उन्होंने इस क्षेत्र से जुड़े उद्योगों को समर्थन देने का आश्वासन दिया।

एफएसएसएआई की कार्यकारी निदेशक इनोशी शर्मा ने कहा कि लोग तेजी से देश के पारंपरिक खाद्य पदार्थो से अलग हो रहे हैं और खासकर ऐसा शहरी क्षेत्रों में हो रहा है।

उन्होंने कहा,”अगर मैं कहूं कि मैं रोटी और बैंगल भर्ता खा रही हूं, तो मुझे हिकारत से देखा जाएगा लेकिन अगर मैं कहूं कि मैं बाबा गनूश और पिता ब्रेड खा रही हूं, तो मैं कूल कही जाऊंगी। हम आखिर अपने ही खाने से दूर क्यों जा रहे हैं।”

उन्होंने एफएसएसएआई की ओर से पूरा समर्थन दिये जाने की बात की।

प्लांट बेस्ड एसोसिएशन, अमेरिका की सीईओ रचेल ड्रेस्किन ने कहा कि इस प्रकार के खाद्य पदार्थो को बढ़ावा देने की मुख्य वजहें पर्यावरणीय लाभ, मानव स्वास्थ्य और सामाजिक न्याय हैं।

Continue Reading

राष्ट्रीय

पूर्व टेस्ला ऑटोपायलट प्रमुख ने एप्पल इलेक्ट्रिक कार प्रोजेक्ट छोड़ा

Published

on

पिछले साल एप्पल की गुप्त कार परियोजना में शामिल होने के लिए इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी छोड़ने वाले पूर्व टेस्ला ऑटोपायलट सॉफ्टवेयर इंजीनियर सीजे मूर अब सॉफ्टवेयर के उपाध्यक्ष के रूप में फ्लोरिडा स्थित लिडार कंपनी ल्यूमिनर में ऑरलैंडो में शामिल हो गए हैं।

कंपनी ने कहा कि मूर ल्यूमिनर की वैश्विक सॉफ्टवेयर विकास टीम का नेतृत्व करेंगे और सेंटिनल, ल्यूमिनर के फुल-स्टैक उन्नत सुरक्षा और स्वायत्त समाधान को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

लुमिनार के संस्थापक और सीईओ, ऑस्टिन रसेल ने एक बयान में कहा, “उद्योग-परिभाषित तकनीक और अब लगभग एक दर्जन प्रमुख व्यावसायिक जीत के साथ, ल्यूमिनर अपने नेतृत्व के अगले चरण के लिए तैयार हैं क्योंकि हम निष्पादन पर ध्यान केंद्रित करते हैं।”

रसेल ने कहा, “हम अपनी ²ष्टि को क्रियान्वित करने और परिवहन के भविष्य को पूरा करने के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ नेताओं को उनके क्षेत्रों में आकर्षित कर रहे हैं।”

सीजे ने पहले टेस्ला के ऑटोपायलट सॉफ्टवेयर के विकास के निदेशक के रूप में कंपनी में सात साल के साथ काम किया और हाल ही में एप्पल में स्वायत्त प्रणालियों के निदेशक के रूप में वह ल्यूमिनर के लिए एक गहन ‘बिल्ड एंड शिप’ मानसिकता और एम्बेडेड सॉ़फ्टवेयर और सिस्टम इंजीनियरिंग में गहरा अनुभव लाए।

इस बीच, कंपनी ने रिमझिम दासगुप्ता को ईवीपी और जीएम की चीफ ऑफ स्टाफ और प्रोग्राम मैनेजमेंट की उपाध्यक्ष भी नियुक्त किया है।

दासगुप्ता व्यापक इंजीनियरिंग कार्यक्रम प्रबंधन अनुभव लाई हैं, जो अवधारणा से लेकर उत्पादन तक अग्रणी टीमें हैं। हाल ही में, उन्होंने इंटेल के इमजिर्ंग ग्रोथ एंड इनक्यूबेशन ग्रुप में चीफ ऑफ स्टाफ के रूप में काम किया, जिसमें लिडार और रडार के लिए अपनी सिलिकॉन इंजीनियरिंग टीम का प्रबंधन शामिल है।

इससे पहले, उन्होंने सिनैप्टिक्स, एप्पल और एएमडी में वरिष्ठ परिचालन और तकनीकी कार्यक्रम प्रबंधन भूमिकाएं निभाई हैं।

Continue Reading

राष्ट्रीय

एक्सिस म्यूचुअल फंड मैनेजर लैंबॉर्गिनी, लक्जरी फ्लैट्स खरीदने के लिए आई-टी की रडार पर

Published

on

एक्सिस म्यूचुअल फंड के पूर्व मुख्य व्यापारी और फंड मैनेजर वीरेश जोशी अनियमितताओं के आरोपों के बीच आयकर विभाग की रडार पर हैं। जोशी पर म्यूचुअल फंड के टिप्स शेयर करने के एवज में दलालों से रिश्वत लेने का आरोप लगा है।

यह आरोप लगाया गया है कि उसने दलालों से भारी वित्तीय लाभ कमाया और मुंबई में एक लैंबोर्गिनी और कई लक्जरी अपार्टमेंट खरीदे।

यह भी आरोप है कि दलाल उसे मासिक आधार पर भुगतान करते हैं। जोशी ने कथित तौर पर दलालों और खुद को फायदा पहुंचाने के लिए कई मिडकैप और स्मॉलकैप शेयर खरीदकर म्यूचुअल फंड में निवेश किया।

घोटाले और एक्सिस म्यूचुअल फंड को देखने के लिए आईटी विभाग ने कथित तौर पर अपने कुलीन अधिकारियों की एक टीम का गठन किया है। जोशी समेत करीब 12 फंड मैनेजर आयकर विभाग के रडार पर हैं।

एक्सिस बैंक ने कहा है कि उसने 4 मई को जोशी और अन्य फंड मैनेजरों को कथित रूप से फ्रंट-रनिंग के आरोप में निलंबित कर दिया है।

आयकर विभाग हैरान हैं क्योंकि आरोपियों ने टैक्स फाइलिंग में अपनी अचल संपत्ति के बारे में जानकारी नहीं दी, जिसका बाद में पता चला।

आयकर विभाग ने अपनी प्रारंभिक जांच में पाया कि फंड मैनेजरों के पास कई वाणिज्यिक और गैर-वाणिज्यिक संपत्तियां हैं, जिन्हें उन्होंने कथित तौर पर अपनी टैक्स फाइलिंग में छुपाया था। उन्होंने यह भी दिखाया था कि वे अपने रियल एस्टेट कारोबार से कमाई नहीं कर रहे थे।

आईटी विभाग को पता चला है कि फंड मैनेजर अपनी संपत्तियों से किराया कमा रहे थे, जिस पर कर का भुगतान नहीं किया गया था।

विभाग उनकी आय के स्रोतों की भी जांच कर रहा है कि फंड मैनेजर कैसे लग्जरी अपार्टमेंट और अन्य संपत्तियां खरीदने में सक्षम हुए।

फंड मैनेजरों को अब कर चोरी के मामले का सामना करना पड़ेगा और इस बात की भी संभावना है कि उन्हें अपनी आय के स्रोतों पर समानांतर जांच का सामना करना पड़ सकता है।

आने वाले दिनों में, आईटी विभाग सभी फंड मैनेजरों को अपने सामने पेश होने और अपनी आय के स्रोतों के बारे में दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए बुला सकता है।

Continue Reading
Advertisement
महाराष्ट्र15 hours ago

मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे ने की जनता से मास्क लगाने की अपील, कहा अभी खत्म नहीं हुआ है कोरोना

महाराष्ट्र16 hours ago

सांसद नवनीत राणा को धमकी देने वाले अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज

राजनीति16 hours ago

बिहार टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी 2022 कैबिनेट से मंजूर, उद्योग मंत्री ने कहा, ‘टेक्सटाइल उद्योग का हब बनेगा बिहार’

अंतरराष्ट्रीय16 hours ago

म्यांमार में स्थानीय भुगतान के लिए विदेशी मुद्रा के उपयोग पर प्रतिबंध

राजनीति17 hours ago

ज्ञानवापी विवाद मामले में मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष की याचिका पर उठाया सवाल

बॉलीवुड17 hours ago

कलाकार के तौर पर खुद को कभी सीमित नहीं रखेंगे- सुकृति-प्रकृति

अपराध18 hours ago

मुंबई के डांस बार में छापेमारी के दौरान 31 लोग गिरफ्तार

राजनीति18 hours ago

चीनी वीजा घोटाला: कार्ति चिदंबरम को 30 मई तक गिरफ्तारी से अंतरिम राहत

राष्ट्रीय18 hours ago

बाजरे के उत्पादन को बढ़ावा देगा केंद्र, वैश्विक बाजार के लिए तैयार होगा प्रसंस्कृत बाजरा उत्पाद

अंतरराष्ट्रीय18 hours ago

अमेजन ने यूएस में खोला अपना पहला कपड़ों का स्टोर

अपराध4 days ago

मंकी पॉक्स के बढ़ते खतरे के बीच मुंबई में विदेश से आने वाले यात्रियों की होगी स्क्रीनिंग

अपराध4 weeks ago

महाराष्ट्र के धुले में पुलिस ने बरामद किया तलवारों का जखीरा, 4 लोग गिरफ्तार

महाराष्ट्र4 weeks ago

मनसे ने 3 मई को होने वाले महाआरती कार्यक्रम को किया रद्द

महाराष्ट्र2 weeks ago

कांग्रेस ने औरंगजेब की कब्र पर जाने वाले भाजपा नेताओं का किया ‘पर्दाफाश’

अपराध3 weeks ago

शाहरूख खान के बंगले के पास एक बहुमंजिली इमारत में लगी आग पर काबू

महाराष्ट्र3 weeks ago

मनसे प्रमुख राज ठाकरे को बीजेपी नेता ने दी धमकी, कहा अयोध्या आने से पहले माफी मांगे राज ठाकरे

महाराष्ट्र4 weeks ago

AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने महाराष्ट्र सरकार को कहा कायर, औरंगाबाद रैली पर राज ठाकरे पर अब तक एक्शन क्यों नहीं

महाराष्ट्र2 weeks ago

ताजमहल के 22 कमरों में नहीं है कोई रहस्य, ASI ने जारी की तस्वीरें

अपराध3 weeks ago

नाबालिग से शोषण के आरोप में 70 साल के शख्स को मुंबई की आग्रीपाड़ा पुलिस ने किया गिरफ्तार

अपराध3 weeks ago

लखनऊ पुलिस ने डुप्लीकेट सलमान खान शांति भंग करने के आरोप में किया गिरफ्तार

रुझान