Connect with us
Friday,03-December-2021
ताज़ा खबर

Monsoon

केरल के इडुक्की में भूस्खलन में 8 लोगों की मौत, 60 लापता

Published

on

Rain

केरल के पहाड़ी क्षेत्र में पिछले चार दिनों से हो रही भारी बारिश के कारण इडुक्की जिले के राजामलाई में हुए भूस्खलन में कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई है, जबकि 60 लोग अब भी लापता हैं।

गुरुवार देर रात जिस जगह भूस्खलन हुआ वह मुनार के लोकप्रिय पर्यटन स्थल से लगभग 30 किमी दूर है।

अधिकारियों ने बताया कि बचाव कार्य के लिए केरल पुलिस की 200 सदस्यों वाली टीम मौके पर पहुंची थी। यह खबर लिखे जाने तक आठ शव बरामद हो चुके थे और 12 व्यक्तियों को बचाया जा चुका था।

इस इलाके में रहने वाली महिलाएं जहां चाय के बागानों में काम करती हैं, वहीं अधिकांश पुरुष जीप चालकों के रूप में काम करते हैं। गुरुवार देर रात दो निवासियों ने फॉरेस्ट स्टेशन में जाकर हादसे की सूचना दी तब जाकर अधिकारियों को इस बारे में पता चला।

मुनार के एक अस्पताल में भर्ती दीपन ने कहा कि भूस्खलन के बाद से उन्हें उनके पिता, पत्नी और भाई के परिवार के बारे में कोई जानकारी नहीं है। वहीं उनकी मां को गंभीर हालत में कोट्टायम मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया था।

दुख से व्याकुल दीपन ने बताया, “पिछले 10 दिनों से लगातार बारिश हो रही है। गुरुवार रात 10.30 बजे के आसपास भूस्खलन हुआ। मुझे मेरे पिता, पत्नी और मेरे भाई के परिवार के बारे में कुछ नहीं पता। इस क्लस्टर में तीन पंक्तियों में बने घरों में लगभग 80 लोग रहते हैं। पता नहीं उन सबका क्या हुआ। भूस्खलन में 30 जीपें भी दब गईं हैं।”

केरल सरकार ने घटनास्थल पर हवाई बचाव दल लाने का प्रयास किया, लेकिन खराब मौसम के कारण यह प्रयास नाकाम रहा। हालांकि, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल की दो टीमें मौके पर पहुंचने वाली थीं ।

अधिकारियों ने कहा कि यहां सबसे बड़ी समस्या यह है कि इस क्षेत्र की सभी संचार लाइनें टूट गई हैं और जगह-जगह पेड़ों के उखड़ने के कारण सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं।

इसी जिले के निवासी राज्य के ऊर्जा मंत्री एम.एम. मणि ने कहा, “भूस्खलन ऐसी जगह पर हुआ था, जहां चाय के मजदूर रहते हैं। यह स्थान एक पहाड़ी के चोटी पर है। स्थानीय विधायक भी मौके पर जा रहे हैं। सभी आपातकालीन सेवाओं को वहां लगा दिया गया है।”

इस बीच, क्षेत्र के निवासी पार्थसारथी ने मीडिया को बताया कि उन्हें तीन कतारों में निर्मित मकानों के बारे में पता है, जिनमें चाय बागानों में काम करने वाले लगभग 80 लोग रहते थे, लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि जब भूस्खलन हुआ था तब वहां कितने लोग थे। क्योंकि पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश के कारण कई श्रमिक अपने घरों पर थे।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

Monsoon

बाढ़ की चपेट में उत्तर प्रदेश के 24 जिले, 605 गांव

Published

on

Floods

 उत्तर प्रदेश में प्रमुख नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, जिसके चलते 24 जिलों के करीब 605 गांवों को बाढ़ प्रभावित घोषित कर दिया गया है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के 24 जिलों में बाढ़ प्रभावित गांवों की संख्या 605 हो गई है।

राहत आयुक्त रणवीर प्रसाद ने बताया कि बदायूं, प्रयागराज, मिर्जापुर, वाराणसी, गाजीपुर और बलिया जिलों में गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

उन्होंने कहा कि औरैया, जालौन, हमीरपुर, बांदा और प्रयागराज जिलों में यमुना खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, जबकि बेतवा नदी हमीरपुर में उफान पर है।

उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और इसी तरह गोंडा में कुवानो और उत्तर प्रदेश-राजस्थान सीमा पर चंबल में बह रही है।

हमीरपुर जिले में 75, बांदा में 71, इटावा और जालौन में 67-67, वाराणसी में 42, कौशांबी में 38, चंदौली और गाजीपुर में 37-37, औरैया में 25, कानपुर देहात और प्रयागराज में 24-24, फरु खाबाद में 23, आगरा में 20 और बलिया जिले में 17 गांव बाढ़ की चपेट में हैं।

प्रसाद ने कहा कि मिर्जापुर, गोरखपुर, सीतापुर, मऊ, लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुर, बहराइच, गोंडा और कानपुर जिलों के गांवों में भी बाढ़ आई है।

राहत आयुक्त ने कहा, “राज्य सरकार ने नौ जिलों में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की नौ टीमों, 11 जिलों में राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की 11 टीमों और 39 जिलों में प्रांतीय सशस्त्र बल (पीएसी) की 39 टीमों को राहत और बचाव अभियान के लिए तैनात किया गया है।”

उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों ने 536 लोगों को बचाया और 504 चिकित्सा टीमों को बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है।

इसके अलावा, राज्य में 11,235 बाढ़ चौकियां और 940 बाढ़ आश्रय स्थल बनाए गए हैं और 1,463 नौकाओं को राहत एवं बचाव कार्यों में लगाया गया है।

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के बीच भोजन के पैकेट और सूखा राशन वितरित किया जा रहा है।

उन्होंने यह भी कहा, “गांवों के साथ-साथ नदी तटबंधों और अन्य संवेदनशील जगहों पर नियमित गश्त की जा रही है। जिला प्रशासन को सामुदायिक रसोई स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं। पेट्रोल, डीजल, मिट्टी के तेल और खाद्य पदार्थों जैसी आवश्यक वस्तुओं की बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नियमित आपूर्ति को बनाए रखा जा रहा है।”

Continue Reading

Monsoon

बाढ़ प्रभावित महाराष्ट्र में 89 हजार लोग बेघर

Published

on

uddhav-t

 बारिश तो थम गई, लेकिन महाराष्ट्र में बारिश और बाढ़ प्रभावित जिलों ने एक गंभीर स्थिति पेश की, जिसमें 89,000 से अधिक लोगों को निकाला गया और केवल इस विचार से जूझना शुरू हो गया कि उनका जीवन का पुनर्निर्माण कैसे किया जाए। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हेलीकॉप्टर से रायगढ़ के लिए रवाना हुए और फिर सड़क मार्ग से महाड़ के पास सबसे ज्यादा प्रभावित तालिये गांव का सर्वेक्षण किया, जहां शुक्रवार को एक पहाड़ी के नीचे 50 से अधिक लोग मारे गए थे।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) के अनुसार, रत्नागिरी जिले के चिपलून और खेड़ शहर में पूरी तरह से पानी से भर गया था, दोनों ही भूमि मार्गों से कटे हुए थे क्योंकि वशिष्ठी नदी का पुल बाढ़ में बह गया था।

अभूतपूर्व बारिश के कारण जल स्तर 15-20 फीट (या, इमारतों की दो-तीन मंजिल) से अधिक हो गया, हजारों लोग छतों या ऊपरी बाढ़ में फंसे हुए थे और मदद के लिए चिल्ला रहे थे।

एनडीआरएफ और आईसीजी टीमों को उन्हें बचाने के लिए तैनात किया गया था, जबकि भारतीय वायुसेना के हेलिकॉप्टरों ने भोजन और दवा के पैकेट गिराए और 1,000 से अधिक को सुरक्षित निकाल लिया गया।

महाबलेश्वर के लोकप्रिय हिलस्टेशन में 110 सेंटीमीटर की शानदार बारिश के साथ, भारी पानी कोयना बांध और कोलतेवाड़ी बांध में चला गया और उनके निर्वहन के कारण वशिष्ठ नदी खतरे के स्तर से ऊपर हो गई, जिसके परिणामस्वरूप कस्बों और गांवों में बाढ़ आ गई।

विभिन्न जिलों में एक दर्जन से अधिक पहाड़ियां और भूस्खलन हुए हैं और कई लापता होने की सूचना है और उन्हें कीचड़ और पत्थरों से बचाने के लिए युद्ध के प्रयास जारी हैं।

राज्य सरकार ने प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यों के लिए 2 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं, जहां जल स्तर कम होना शुरू हो गया है और सफाई अभियान शुरू कर दिया गया है।

एसडीएमए ने आज बाढ़, पहाड़ी-पर्ची, भूस्खलन और अन्य बारिश से संबंधित त्रासदियों में 59 अन्य लापता और 38 घायलों के अलावा 76 पर वर्तमान आधिकारिक मौत का अनुमान लगाया।

सबसे ज्यादा प्रभावित जिले कोल्हापुर, रायगढ़, सांगली, रत्नागिरी, सतारा, सिंधुदुर्ग, मुंबई और ठाणे थे, जिसमें कुल 890 गांव थे।

एनडीआरएफ की कुल 25 टीमें और आठ स्टैंडबाय पर, भारतीय सेना और भारतीय तटरक्षक बल की तीन-तीन इकाइयां, भारतीय नौसेना की सात और भारतीय वायु सेना की एक, स्थानीय अधिकारियों के अलावा, पिछले 24 घंटों से लगातार बचाव अभियान में लगी हुई है।

एसडीएमए ने कहा कि क्षेत्र में ताजा बारिश शुरू होने के साथ, अधिकारी किसी भी अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए हाई अलर्ट पर हैं, जबकि स्वास्थ्य अधिकारी बाढ़ के बाद किसी भी बीमारी के संभावित प्रकोप के लिए क्षेत्र पर नजर रख रहे हैं।

Continue Reading

Monsoon

भूस्खलन से तबाह हो गया रायगढ़ का तालिये गाँव, 120 लोगों की आबादी, 49 मरे, 47 लापता

Published

on

raigadh-1

महाराष्ट्र में भारी बारिश के बाद बाढ़ और भूस्खलन से तबाही मची है। अलग-अलग घटनाओं में अभी तक 136 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। लेकिन सबसे दर्दनाक हादसा रायगढ़ जिले के महाड तालुका के तालिये गांव में हुआ है, जहां 49 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां 12 लोग अभी घायल हैं, जबकि 47 अन्य लापता बताए जा रहे हैं। तस्वीरों में देखिए मंजर.. रायगढ़ के तालिये में भूस्खलन की यह घटना गुरुवार की शाम हो हुई। राहत और बचाव का काम जारी है। यहां के निवासी मिलिंद गंगवाने ने बताया, ‘सरकार और प्रशासन की तरफ से ग्रामीणों को आपदा का अलर्ट नहीं जारी किया गया था। हमारे छोटे से गांव में 120 लोगों की ही आबादी है। पहाड़ से 100 फीट की ऊंचाई से पत्थर गिरा।’

उन्होंने यह भी बताया कि स्थानीय प्रशासन की तरफ से 4-5 दिन पहले सुरक्षित जगह पर शिफ्ट किया गया था लेकिन बारिश कम होने पर वे वापस लौट आए। रायगढ़, सतारा, रत्नागिरी में बाढ़ और भूस्खलन की अलग-अलग घटनाओं में कई लोगों की मौत हुई है। वहीं तालिये की अंकिता नाम की निवासी ने बताया- मेरा घर टूट गया। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। लोगों ने नए घर बनाए थे और उसके लिए लोन भी लिया था। सबकुछ खत्म हो गया। विपक्षी बीजेपी ने सत्तापक्ष के नेताओं और प्रशासन पर समय से ऐक्शन नहीं लेने और घटना के 20 घंटे बाद भी नहीं पहुंचने का आरोप लगाया। वहीं मुंबई से हेलिकॉप्टर के जरिए आई एनडीआरएफ की टीम को प्रशासन की तरफ से लैंडिंग की जगह नहीं मिलने से वापस लौटना पड़ा।

रायगढ़, कोंकण और सातारा में अगले दो दिन के लिए रेड अलर्ट है। कोल्हापुर, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग ऑरेंज अलर्ट पर है। कोल्हापुर की नदी पंचगंगा, रत्नागिरी की काजली और मुचकुंदी, कृष्ण नदी और कोयना डैम के साथ-साथ विशिष्टि नदी अब भी खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बारिश के कारण हुए हादसों में मृतकों के घरवालों को 5-5 लाख रुपये की अंतरिम मदद का ऐलान किया है। केंद्र सरकार मृतकों के परिजन को दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये देगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंत्रालय के आपात नियंत्रण कक्ष में पहुंचकर हालात का जायजा लिया।

Continue Reading
Advertisement
Tesla
अंतरराष्ट्रीय9 mins ago

आधिकारिक तौर पर टेस्ला ने अपना मुख्यालय टेक्सास में किया स्थानांतरित

अंतरराष्ट्रीय15 mins ago

शाओमी 12 के साथ लॉन्च के लिए तैयार है एमआईयूआई 13 : रिपोर्ट

बॉलीवुड18 mins ago

एक्शन थ्रिलर ‘कंधार’ में जेरार्ड बटलर के साथ नजर आएंगे अली फजल

बॉलीवुड35 mins ago

‘शाबाश मिठू’ 4 फरवरी, 2022 को होगी रिलीज

अपराध46 mins ago

दक्षिण अफ्रीका से जयपुर लौटने के बाद 4 लोग कोविड पॉजिटिव, जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए नमूने

अंतरराष्ट्रीय49 mins ago

वार्न की आलोचना के बावजूद टीम में शामिल स्टार्क और ल्योन एशेज में अपने जलवे दिखाएंगे: रोजर्स

अंतरराष्ट्रीय53 mins ago

ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज मैक्सवेल को टेस्ट क्रिकेट खेलने की उम्मीद

राजनीति58 mins ago

मायावती का भाजपा, सपा, कांग्रेस पर निशाना, बोलीं, ‘सत्ता में आने पर भूल जाते हैं वादे’

राजनीति1 hour ago

केरल हाईकोर्ट ने दिवंगत नेता के बेटे की नियुक्ति रद्द करते हुए कहा, विधायक सरकारी कर्मचारी नहीं

राजनीति1 hour ago

पंजाबी सिंगर मूसेवाला कांग्रेस में हुए शामिल

राजनीति3 weeks ago

मरने के बाद मुझे दफनाया नहीं जाए, मेरा हो दाह-संस्कार : वसीम रिजवी

सामान्य4 weeks ago

त्रिपुरा में मुस्लिम विरोधी हिंसा को लेकर रज़ा अकादमी ने किया मुंबई बंद का ऐलान

source photo india tv
अपराध3 weeks ago

मालेगांव बंद के दौरान हिंसा की खबर, पुलिस ने किया बल का प्रयोग

राजनीति2 weeks ago

पीएम मोदी का बड़ा ऐलान- तीनों कृषि कानून वापस लेगी केंद्र सरकार

महाराष्ट्र5 days ago

कोरोना के नये वेरियंट ओमिक्रॉन की आहट से सरकारें सतर्क, महाराष्ट्र में सरकार ने लागू की नई कोरोना गाइडलाइन्स

महाराष्ट्र2 weeks ago

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े को लेकर पेश किया और सबूत, कहा स्कूल के लीविंग सर्टिफिकेट में धर्म है मुस्लिम

महाराष्ट्र1 week ago

महाराष्ट्र में एक दिसंबर से स्कूल फिर से खुलेंगे, शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने की घोषणा

महाराष्ट्र4 weeks ago

भू-माफिया फराज मिस्त्री की अवैध बिल्डिंग से सैकड़ों लोगों की जान खतरे में, नगरसेविका आफरीन शेख और बीएमसी की साठगांठ पर उठ रहे सवाल?

महाराष्ट्र3 weeks ago

बीजेपी नेता आशीष शेलार का नवाब मलिक पर पलटवार, रियाज भाटी की तस्वीरें शरद पवार और सीएम उद्धव ठाकरे के साथ भी हैं..इसका जवाब कौन देगा?

अपराध3 weeks ago

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में अल्लामा इकबाल के पोस्टर पर विवाद, विरोध के बाद हटाई गई तस्वीर

अपराध2 years ago

झोमेटो की महिला ने गाड़ी उठा कर ले जाने पर ट्रैफिक पुलिस को दी गालियां

अपराध2 years ago

मुंबई के भायखला ई वार्ड में स्थित केएसए ग्रांड के 18वें फ्लोर से गिरी लिफ्ट, एक शख्स घायल

बॉलीवुड3 years ago

शाहरूख खान की आने वाली फिल्म जीरो का ट्रेलर इस दिन होगा रिलीज

बॉलीवुड3 years ago

पूर्व मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन का कभी देखा है इतना हॉट लुक

अपराध3 years ago

मुंबई लोकल से गिरी लड़की के खिलाफ आरपीएफ ने दर्ज किया केस

बॉलीवुड3 years ago

तनुश्री दत्ता के आरोपों पर अभिनेता नाना पाटेकर जल्द ही देंगे जवाब

मनोरंजन3 years ago

पीएम नरेंद्र मोदी ने शाहरूख खान को इस वजह से किया सैलूट

बॉलीवुड3 years ago

जानिए आखिर क्यों गोल्डन गर्ल आशा पारेख ने नहीं की शादी

अपराध3 years ago

मुंबई लोकल से गिरी लड़की की पहचान आई सामने, जानिए कौन है वो लड़की

अपराध3 years ago

देखिए मुंबई में हुए एक दर्दनांक हादसे का वीडियो

रुझान